Wednesday, June 27, 2018

विलम्बित लय में गूंजती है बारिश की आवाज


एक चुप सी लगी है. इस चुप में सुख है. बड़ी मशक्कत से इस चुप तक पहुंचना हो पाता है. इसे सहेजने के जतन में कई बार घबराहट होती है. कहीं कोई चूक न हो जाए, कहीं इस चुप पर कोई खरोंच न लग जाये. बारिशों के घेरे में सहेजती हूँ इस चुप को, तुम्हारी याद के घेरे में भी. 

इस चुप का उदासी से कोई रिश्ता है, जानती हूँ फिर भी जाने क्यों इस दफे नहीं चाहती थी कि इस चुप में कोई उदासी आये. कभी तो यूँ हो कि मैं हूँ, तुम हो और उदासी न हो. ओह, यह तो कुछ ज्यादा की उम्मीद हो गयी शायद. फिर भी कोशिश करती रही. उदासियों को चुप के घेरे में आने से बचाती रही, तेरी यादों को तेरे होने से बचाती रही. लेकिन हूँ तो बुध्धू ही, सो ऐसा हो न सका. उदासी ने चुप की कलाई थाम ही ली.

उदासी में एक सुख है, यह शाश्वत उदासी है जो चुप के घर में रहती है. कुछ अनमनी सिसकियाँ हैं जिन्हें खो दिया था कहीं वो मुस्कुराने लगी हैं. सब कुछ कितना जाना हुआ है. इस उदासी के साथ ढेरों पैदल यात्राएँ करना चाहती हूँ, बहुत सारा रोना चाहती हूँ. नृत्य करना चाहती हूँ. न, तुम्हारा होना नहीं चाहती कि तुम्हारा होना उदासी के इस राग को खंडित करता है.

तुमसे बिछड़ने का सुख है. उदासी का सुख. विलम्बित लय में गूंजती है बारिश की आवाज. यह आवाज मेरी गुम गयी आवाज ही तो है. वो आवाज जिसे मैंने बहुत सारे बोले हुए के पीछे छुपाया था.

मैं तुम्हें तुम्हारे बिना ही चाहती हूँ.

4 comments:

सुशील कुमार जोशी said...

बारिश ताबड़तोड़ होने लगी है आजकल। रिमझिम रिमझिम देखे बरसों हो गये। सुन्दर।

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (29-06-2018) को "हम लेखनी से अपनी मशहूर हो रहे हैं" (चर्चा अंक-3016) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Darshan Darvesh said...

बारिश के बीच बैठा हूँ और आपका ब्लॉग पढ़ रहा हूँ !

Pratibha Katiyar said...

बारिश होती रहे दर्शन दरवेश जी