Thursday, September 28, 2017

शरद, शाम, साहिर और सप्तक



हजारों गम हैं इस दुनिया में अपने भी पराये भी...मोहब्बत ही का गम तनहा नहीं हम क्या करें...जब भी जिन्दगी के झंझावात उलझाते हैं साहिर के शब्द आसपास ही मंडराने लगते हैं...साहिर महबूब शायर हैं...मन की बात समझते हैं...मन के हर मौसम से उनका लिखा कुछ न कुछ टकरा ही जाता है...ऐसा ही आज भी हुआ.

कई दिनों से मन बेहद उदास है और फुर्सत रत्ती भर नहीं है...तो उदासी की गठरी सर पर लादे लादे भटकती फिर रही हूँ...न मिलने वाली फुर्सतों  की यह अच्छी बात होती है कि वो आपकी उदासी भी आपसे छीन लेने को बेताब होती हैं...हालाँकि इसके एवज में कई बार चिड़चिड़ाहट साथ हो लेती है.

उतरते शरद के बीच मन का मौसम ऐसा बेढंगा हो यह जरा कम जंचने वाली बात तो है ही...तो आज की सुबह उतरी अपने साथ साहिर को लेकर...दोस्त चन्दर वर्मा की लिखी किताब 'साहिर और मैं' कबसे रास्ते में थी और जब मिली तो खूब मिली...महबूब शायर हैं साहिर उनकी किताब का आना कितना सुख दे गया बता नहीं सकती. हालाँकि यह किताब को सिर्फ पाने का सुख है...पढने का सुख अभी पूरा बाकी है...

दुनिया आज नवरात्र में कन्या जिमाने में लगी थी इसी बीच कुछ लोगों ने भगत सिंह को भी याद किया...भागते दौड़ते जेहन में कभी भगत सिंह, कभी साहिर चलते रहे....कि इसी बीच स्वाति ने आवाज़ दी कि आज लता जी का जन्मदिन है और इस मौके पर लता की सुर साधना का दसवां बरस...दस साल पहले लता की सुर साधना की पहली महफिल जमी थी उत्तर प्रदेश के उन्नाव में...तब भी स्वाति ने आवाज दी थी...तब नहीं पहुँच पायी थी...लेकिन उसके बाद जब भी मौका मिलता है ज़रूर जाती हूँ...

स्वाति खूब मेहनत करती है...संगीत उसका इश्क़ है...मगरूर इश्क...उसी में रमे रहना उसे भाता है...बचे हुए वक़्त में यायावरी करती है...जिन्दगी में और कोई उलझन उसने रखी ही नहीं...मुझे उसकी यह संगीत से, प्रकृति से, जिन्दगी से आशिक मिजाजी बहुत पसंद है...इसी आशिक मिजाजी से उपजी आज की शाम भी. उसकी मिश्री सी आवाज़ में सुनना ये दिल तुम बिन कहीं लगता नहीं हम क्या करें...इस दिलफरेब मौसम से मिलवा गया...

आज की यह महफ़िल महबूब शायर साहिर के करीब ले जाने की शाम थी...नन्हे पौधों को पेड़ बनते देखने की शाम थी, सुकून की शाम थी...

अब सिरहाने शरद का चाँद  है, हाथ में साहिर हैं और अभी-अभी बीती संगीत की प्यारी सी खुशनुमा शाम की मीठी सी याद है...ओह शरद...तुम मिल ही गए आखिर...साहिर के बहाने...लता जी के बहाने...सप्तक  के बहाने...

(शरद, साहिर, लता और इश्क शहर )

1 comment:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (30-09-2017) को "विजयादशमी पर्व" (चर्चा अंक 2743) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'