Monday, March 5, 2018

मिलन


जब तुम्हें देखता हूँ तब तुम्हें सोचता नहीं हूँ 
जब तुम्हारे पास आता हूँ, तब रास्ते में कहीं खो जाता हूँ
जो तुम्हारे पास पहुँचता है वो कोई और होता है
तुम जिससे मिलकर खुश होना चाहती थी
उससे मिलकर उदास होती हो
और जो तुम्हारे पास पहुँचता है वो गुनहगार
हालाँकि रास्ते में भटक जाने का गुनाह मेरा है, उसका नहीं
मैं रास्ते में भटका हुआ तुम्हारी उदासी से बहुत दूर होता हूँ
और वो उस उदासी को अपने कन्धों पर उठा पाने में लगातार नाकाम

उसके साथ चलते हुए तुम पीपल के पेड़ की ओट से झांकते चौथ के चाँद को देखती हो
चाय पीने की इच्छा को उपेक्षित करती हो
ठीक उस वक़्त मैं अपने भटकाव के रस्ते में मिली एक गुमटी में
चाय पीते हुए मैं तूम्हारे बारे में सोचता हूँ
तुम्हारी उँगलियों के नर्म स्पर्श के बारे में
तुम्हारी आँखों में उतरी उस नदी के बारे में
जिसकी तेज़ धार में हमारे ढेर सारे चुम्बन प्रवाहित हैं

मुझे तुम्हारी बहुत याद आती है
और मैं तेज क़दमों से तुमसे मिलने को चल देता हूँ
जब मैं तुम्हारे पास पहुँचता हूँ तुम अपनी उदास आँखें लिए जा चुकी होती हो
मेरी देह पर तुम्हारा रुदन बिखर जाता है

मैं जानता हूँ कि अब जबकि तुम जा चुकी हो
मैं तुम्हारे ही बारे में सोचता रहूँगा देर तक
पीपल की कोई पत्ती टूटकर कांधों पर गिरी है
वो पत्ती मेरा दर्द समझती है शायद
क्या वो पत्ती तुम हो ?
(5 फ़रवरी 2018 के दैनिक जागरण में प्रकाशित)

8 comments:

Kavita Rawat said...

बहुत सुन्दर ..

RADHA TIWARI said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (07-03-2018) को ) "फसलें हैं तैयार" (चर्चा अंक-2902) पर भी होगी।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
राधा तिवारी

Anonymous said...

hello!,I really like your writing so much! percentage we
keep up a correspondence extra approximately your article on AOL?

I need a specialist in this space to resolve my
problem. Maybe that's you! Taking a look forward to peer you.

Anonymous said...

Just desire to say your article is as astonishing.
The clarity to your publish is just nice and that i could
think you are an expert on this subject. Well together with
your permission let me to snatch your feed to keep updated with impending post.
Thank you a million and please keep up the rewarding work.

संजय भास्‍कर said...

बहुत ही खूबसूरत अल्फाजों में पिरोया है आपने इसे... बेहतरीन

Arun Roy said...

अच्छी कविता

Anonymous said...

Your style is really unique in comparison to other folks I've read stuff from.
Thanks for posting when you have the opportunity, Guess I'll just book mark this
blog.

Anonymous said...

Keep on writing, great job!