Friday, October 13, 2017

अक्टूबर की हथेली पर...


अक्टूबर की हथेली पर
शरद पूर्णिमा का चाँद रखा है
रखी है बदलते मौसम की आहट
और हवाओं में घुलती हुई ठण्ड के भीतर
मीठी सी धूप की गर्माहट रखी है

मीर की ग़ज़ल रखी है
अक्टूबर की हथेली पर
ताजा अन्खुआये कुछ ख्वाब रखे हैं

मूंगफली भुनने की खुशबू रखी है
आसमान से झरता गुलाबी मौसम रखा है
बेवजह आसपास मंडराती
मुस्कुराहटें रखी हैं
अक्टूबर की हथेली पर

परदेसियों के लौटने की मुरझा चुकी शाख पर
उग आई है फिर से
इंतजार की नन्ही कोंपलें
अक्टूबर महीने ने थाम ली है कलाई फिर से

कि जीने की चाहतें रखी हैं
उसकी हथेली पर
धरती को फूलों से भर देने की
तैयारी रखी है
बच्चों की शरारतों का ढेर रखा है
बड़ों की गुम गयी ताकीदें रखी हैं
उतरी चेन वाली साइकिल रखी है एक
और सामने से गुजरता
न खत्म होने वाला रास्ता रखा है
अपनी चाबियाँ गुमा चुके ताले रखे हैं
मुरझा चुके कुछ ‘गुमान’ भी रखे हैं
अक्टूबर की हथेली पर

पडोसी की अधेड़ हो चुकी बेटी की
शादी का न्योता रखा है
कुछ बिना पढ़े न्यूजपेपर रखे हैं
मोगरे की खुशबू की आहटें रखी हैं
और भी बहुत कुछ रखा है
अक्टूबर की हथेली में
बस कि तुम्हारे आने का कोई वादा नहीं रखा...

Monday, October 9, 2017

मेरी जान हो तुम प्यारी रैना...



जिंदगी के सबसे बुरे दिनों में तुम्हारा होना कीमती था, तुम न कुछ पूछतीं न मैं कुछ बताती थी फिर भी एक रिश्ता गहराने लगा था भीतर ही भीतर...रैना, तुम्हारा सिर्फ नाम लिखती हूँ और एक संसार खुलने लगता है.

उस शहर में तुम्हारा होना उन दिनों सिर्फ मेरे लिए ही था मानो...बाहर के युद्ध लड़ लेना आसान होता है भीतर के मुश्किल...तुम्हारा साथ मेरे भीतर के युध्ध में मेरा साथ दे रहा था....करियर के सबसे काले दिनों में एक तुम ही उजाला थीं...तुम्हारी दिप दिप करती मुस्कुराहट मेरा हाथ थामे रहती थी.

कभी मेरी गोद में तुम्हारा यूँ ही सर रख कर बैठ जाना, कभी चुप से बगल में आकर खड़े हो जाना कितनी ताकत देता था कितनी ऊर्जा समेट देता था. कानपुर मेरे लिए बहुत बुरी यादों का शहर है जिसमें सिर्फ तुम इकलौती सुख की याद हो...तुम्हें मैंने बहुत सहेज कर रखा है...

नाराज़ मत हो तुम अब भी मेरी पहली 'प्यारी चुड़ैल' हो...लव यू...जन्मदिन मुबारक हो मेरी जान! 

Monday, October 2, 2017

चोटिल चन्द्रमा चल रहा है- डॉ. स्कंद शुक्‍ल


डॉ. स्कंद  शुक्‍ल को पढ़ना अलग तरह का अनुभव देता है. संवेदना, ज्ञान और जानकारियों का ऐसा सामंजस्य अमूमन कम ही देखने को मिलता है. और भाषाई कौशल तो है ही. यूँ तो वो रुमेटोलॉजिस्ट और इम्यूनोलॉजिस्ट हैं
लेकिन उनकी लेखनी ने उन्हें दिलों का डॉक्टर बना रखा है. उनकी बातों से कई बार मेरी असहमतियां भी होती हैं लेकिन उनके लिखे का आकर्षण असहमतियों का सौन्दर्य बढ़ाता ही है....पाठक होने के अलावा उनसे एक और रिश्ता है मेरा वो है लखनऊ का रिश्ता. आज 
स्कंद  शुक्ल ने अपनी कहानी 'प्रतिभा की दुनिया 'के लिए देकर उन्होंने इस लखनवी रिश्ते को मान दिया है.- प्रतिभा
----------------------------------------------

ढेला किसी मेढक-सा उस झील की सतह पर उछलता निकल गया था। दो-तीन-चार छलाँगें और गुडुप्प !
"कहाँ तक पहुँचाना है ?" मैंने पूछा था।
"और आगे ?"
"कितना आगे ?"

उसने आँखें उचकायीं मानो किसी तरुण हंसिनी ने अपने पंख फैलाये हों। चेहरे पर उड़ान।

"फेंका गया पत्थर नीचे क्यों आता है, विधु ?"
"क्योंकि धरती उसे खींच लेती है।"
"क्यों खींच लेती है ?"
"क्योंकि उसमें गुरुत्व है।"
"तो तुरन्त क्यों नहीं खींचती ?"
"क्योंकि तुमने उसमें अपने हाथ की ताक़त भरी है। जब तक उसमें तुम्हारी दी ऊर्जा है , वह धरती के ऊपर किसी पक्षी-सा उड़ रहा है। और फिर धीरे-धीरे नीचे-नीचे , और नीचे और धड़ाम।" मैं अपनी मुट्ठी को हथेली पर गिराता हूँ।

"तो सारा मामला खिंचावों के बीच लड़ाई का है। कौन किसे कितना खींच ले जाए।"
"हाँ।"
उसे इतनी छोटी सहमति नहीं चाहिए थी।
"तो अगर किसी कंकड़ को आसमान की सैर करानी हो इस तरह कि वह घर ही न लौटे तो क्या करें ?"
"तो इतनी तेज़ फेंको कि धरती उसे वापस न खींच पाये। वह जाए , जाए , जाए और धरती का एक पूरा चक्कर लगा आए। चाँद की तरह।"
"चाँद धरती का चक्कर लगाता है न। रोज़। लेकिन गिरता नहीं कभी।बस दिखता है। घूमता हुआ। रात को। कभी पूरा , कभी आधा। कभी पतला , कभी मोटा।

चाँद नहीं गिरेगा। क्योंकि वह घूम रहा है धरती के चारों ओर। उसकी माशूक़ा गोल है। वह ख़ुद भी गोल चक्कर लगा रहा है। वह धरती पर गिरता हर दिन है , लेकिन पहुँचता नहीं उस पर। यही विधु-वसुधा की कथा का वर्तुल है। जिसमें गोल देह हैं , गोल रास्ते हैं और कभी न मिलने , केवल देखने की सुखद विडम्बना।"
"सुखद विडम्बना ?"
"हाँ , सुखद विडम्बना। चाँद रुक गया तो वह धरती के गले लग जाएगा। और मर जाएँगे हम-सब। धरती निपूती हो जाएगी।"
वसुधा का ढेला अबकी बार बहुत दूर गया है। दूर , बहुत दूर। पानी को बिना छुए। और फिर ओझल। न जाने कहाँ। तभी वह झील के उस पार के पेड़ों की ओर इशारा करती है।
"वह देखो। मैंने अपने नन्हें मुसाफ़िर को चाँद पर पहुँचा दिया। अब वह कभी नहीं लौटेगा। घूमता रहेगा सदा चारों ओर अपनी धरती के।"

चाँद काले पेड़ों के पार से लुकछिप कर झाँक रहा था। उसकी देह पर एक और नये पत्थर की मार थी...