Sunday, March 24, 2013

रवीश कुमार- जिसे चैन से जीना पसंद नहीं

कुछ दोस्तों को हम आवाज़ के सबसे भीतर वाले दरीचों में छुपाकर रख देते हैं। इस भरोसे पे कि सालों की दूरियां भी उनके होने की तासीर को कम नहीं कर पाएंगी। ऐसे ही एक दोस्त हैं रवीश। हाँ, वही एनडीटीवी वाले. सोचती हूँ इस आदमी को चैन से जीना पसंद ही नहीं है। रवीश की रिपोर्ट देखते हुए भी अक्सर ऐसा ही लगता था। सारी दुनिया ऐसे काम करने को उत्सुक और प्रयासरत होती है जिससे आगे बढ़ा जाये, प्रशंशा मिले लेकिन ये जनाब तो जैसे जानबूझकर ऐसे विषय तलाशते है जिसे करने में मेहनत लगे चार गुना और टीआरपी मिले जीरो। इन्हें पंगे लेने में मजा आता है. वो टाई पहनकर स्टूडियो में बैठने की बजाय तपती दोपहर में खबर को तलाशना, लोगों से बातें करना ज्यादा पसंद करते है. फिर भी जब उन्हें स्टूडियो में  बैठना होता है तो वो वहां भी कुछ अलग ही करते नजर आते हैं। रवीश उन मुठ्ठी भर पत्रकारों में से एक हैं जिन्होंने को खुद को खोये बगैर काम करना सीखा है और पत्रकारिता पर भरोसे को बचाया हुआ है.

'हम लोग' को वो नीरज की गलियों से घुमाते हुए दीप्ति नवल फारुख शेख का हाथ पकड़कर सूफी सगीत मदन गोपाल सिंह के जरिये सुफिज्म को समझने की कोशिश करते हैं। कार्यक्रम देखते हुए अक्सर उनके भीतर का पागलपन यानि कुछ बेहतर करने की जिद सी झलकती है। सचमुच इस दुनिया को पागलों ने ही बचाया हुआ है। ऐसे दोस्त होते हैं तो जिन्दगी की कड़वाहटें भी मीठी सी लगने लगती है। ये यकीन बचा रहता है कि कुछ लोग अपने अपने मोर्चों पर डटे हुए हैं बावजूद इसके कि ये आसान नहीं है. ये जानते हुए कि जिस राह को वो चलने के लिए चुनते हैं उस पर चलने में हजार दिक्कतें हैं फिर भी वो चुनते हैं वही राह.

मैं कहती हूँ जान ही ले लो आप कितना सुन्दर प्रोग्राम था 'मौला मेरे मौला' भी 'लिसन अमाया'  भी,  'नीरज' भी,  वो फीकी सी आवाज में कहते हैं और उनकी रेटिंग के बारे में पता है तुम्हें? मैं कहती हूँ मैं जानती हूँ नयी लकीरें खींचने की जिद भी और दिक्कत भी।

शुक्रिया रवीश। रहे सलामत यूँ ही पागलपन! 


10 comments:

डॉ. मोनिका शर्मा said...

उनका समर्पण दर्शकों को भी इतना ही प्रभावित करता है .... एक दोस्त की नज़र से उन्हें और जाना , आभार

वाणी गीत said...

समझदारों की दुनिया में कुछ पागल भी जरुरी हैं !

प्रवीण पाण्डेय said...

आपसे सहमत हूँ, बच कर निकल जाने वाला मार्ग रवीश जी को आता ही नहीं, सामना करने का जीवट व्यक्तित्व।

Sonal Rastogi said...

भेड़ होना आसान है पर खुद का तय करना मुश्किल ...रविश जी अपनी राह खुद बनाते है ..और हमें उनका यही रूप भाता है

indianrj said...

रवीश जैसे पत्रकार की शुरूआत ही वहाँ से होती है जो दूसरे पत्रकारों की प्रतिभा की अधिकतम सीमा समाप्त हो जाती है। मैं उनके कार्यक्रम की कायल हूँ हालांकि पिछले कुछ समय से कभी 2 लगता है, कहीं कहीं पर कुछ तल्ख़ सा अहसास करा जाते हैं। लेकिन इसमें मुझे लगता है, रवीशजी फिर भी अपने को काफी संभाल लेते हैं। उनका गुस्सा लाज़मी है, ये भी उनकी ईमानदार छवि से ही मेल खाता है।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
--
रंगों के पर्व होली की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामंनाएँ!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
--
रंगों के पर्व होली की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामंनाएँ!

Rahul Paliwal said...

Only news reporter whom I watch regularly, at Prime time.

varsha said...

ये यकीन बचा रहता है कि कुछ लोग अपने अपने मोर्चों पर डटे हुए हैं बावजूद इसके कि ये आसान नहीं है. ये जानते हुए कि जिस राह को वो चलने के लिए चुनते हैं उस पर चलने में हजार दिक्कतें हैं फिर भी वो चुनते हैं वही राह....sahi kaha pratibhaji.

Kalipad "Prasad" said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
latest post हिन्दू आराध्यों की आलोचना
latest post धर्म क्या है ?